चौमूँ किले का इतिहास, चौमूँ किले की खूबसूरती से जुड़ी रोचक जानकारी

चौमूँ का इतिहास ओर घूमने की जानकारी, चौमूँ पैलेस की जानकारी

चोमू-किले-का-इतिहास, चोमू-किले-की-खूबसूरती-से-जुड़ी-रोचक-जानकारी
चोमू किले का इतिहास, चोमू किले की खूबसूरती से जुड़ी रोचक जानकारी

चौमूँ किले का इतिहास, चौमूँ किले की खूबसूरती से जुड़ी रोचक जानकारी

चौमूँ किले का इतिहास | चौमूँ किले की जानकारी | चौमूँ पैलेस होटल | चौमूँ दुर्ग की जानकारी | चौमूँ का इतिहास ओर घूमने की जानकारी | जयपुर से चौमूँ की दूरी

SearchDuniya.Com

चौमूँ किले का इतिहास

आज के इस आर्टिकल मे हम आपको राजस्थान राज्य के जयपुर जिले मे स्थित चौमूँ किले के गोरवशाली इतिहास के बारे मे जिसे जानकर आपको भी चोमू किले मे घूमने की इच्छा जरूर होगी । चोमू किला क्यो प्रसिद्ध है । चोमू किले की बॉलीवुड मे क्या पहचान है । चोमू किले कि स्थापना कब हुई । चौमूँ किले मे घूमने की प्रमुख जगह क्या है इसकी पूरी जानकारी इस आर्टिकल मे दी गई है तो आप इस आर्टिकल को पूरा पढे । ओर जाने चोमू किले से जुड़ी सभी रोचक जानकारी जो आपको चोमू के बारे मे जननी चाहिए ।

चौमूँ का किला

चोमू एक छोड़ा शहर है जो की भारत के राजस्थान राज्य के जयपुर जिले मे स्थित है । अगर हम चोमू के इतिहास की बात करे तो चोमू का इतिहास जयपुर से भी पुराना है । अगर चोमू किले के निर्माण की बात करे तो चोमू किले का निर्मार्ण जयपुर से भी 133 वर्ष पहले हो चुका था । चोमू किले को राजस्थान मे ही नहीं बल्कि पूरे देश मे अपनी ऐतिहासिक परंपरा, अपने गोरवशाली इतिहास, अपनी सांस्कृतिक महत्व की विरासत के कारण जाना जाता है ।

 

जयपुर से पहले बसा था चौमूँ शहर, चौमूँ का इतिहास

जयपुर शहर के भी 133 साल पहले बसा है चोमू शहर आज जयपुर की चकाचोंध के आगे फीका नज़र आता है। क्योंकि जयपुर और चोमू शहर का विकाश अलग तरह से हुवा है। लेकिन फिर भी चोमू राजस्थान में राजा-महाराजाओं के इतिहास (chomu ka itihash), चोमू का किला, चोमू के मंदिर , चोमू के दुर्ग आदि के कारण पुरे राजस्थान में अपने गौरवपूर्ण इतिहास के लिए प्रसिद्ध है ।

चौमूँ का किला, चोमू के दुर्ग की जानकारी

चोमू का किला, चोमू के दुर्ग की जानकारी
Chomu Ka Itihas

चौमूँ का किला राजस्थान की राजधानी जयपुर से लगभग 33 किलोमीटर उतर मे स्थित है जो की चौमुहागढ़ ( Chomu Ka Kila ) कहलाता था । जिसके चारो ओर बसा होने से यह कस्बा चोमू कहलाया ।

चौमूँ की स्थापना – 1595 मे

जयपुर की स्थापना – 1728 मे

चौमूँ जयपुर से कितने वर्ष पूर्व बसा – 133 वर्ष पूर्व

चौमूँ का पहले नाम क्या था – चौमुंहागढ़ या चौमुंहा

वर्तमान नाम – चौमूँ

 

Chomu Kile Ka Nirmarn

पंडित हनुमान शर्मा द्वारा लिखित नाथवातों के इतिहास के अनुसार ठाकुर कर्णसिंह द्वारा वि. संवत 1652 – 54 ( 1595 – 97 ई . ) के लगभग बेणीदासनामक एक संत के आशीर्वाद से चोमू का दुर्ग ( Chomu Ka Durg ) की नींव राखी गई । ओर इसके बाद ठाकुर रघुनाथसिंह द्वारा इसमे कई बुर्ज तथा भवन भी बनवाए गये ।

चौमूँ किले से जुड़े नाम

चोमू किले को ठाकुर रघुनाथसिंह के शासनकाल मे नाथगढ़ भी कहा गया । चोमू किले ( Chomu Kila ) को धाराधारगढ़ भी कहा जाता है। चोमू दुर्ग जमीन की ढलान पर बना हुआ है ।

 

चौमूँ किले की विशेषता

चोमू का किला जमीन पर बना हुआ है जो की सुढ़्ढ ओर विशाल है चोमू का यह दुर्ग जमीन पर बना होने के कारण भूमि गुर्ग की श्रेणी मे आता है । यह किला / दुर्ग अपनी प्राचीन सुढ़्ढ, विस्तार ओर गहरी खाई, आलीशान महल व अपनी महत्वपूर्ण सामरिक स्थिति के कारण इसका जागीरी ठिकानो के किलो मे महत्वपूर्ण स्थान था ।

चौमूँ किले मे भव्य ओर आलीशान महल बने हुये है

इस किले मे बहूत से महल बने हुये है जिनमे कुछ खास इस प्रकर है कृष्ण निवास, रतन निवास, शीश महल, मोती महल तथा देवी निवास आदि चर्चित महल है ।

चौमूँ किले की स्थापत्य कला

चोमू किले मे बने महल शिल्प ओर स्थापत्य कला की द्रष्टि से उत्क्रष्ट है इन महलो मे ढूंढाड़ शैली के प्रतिनिधि सजीव ओर कलात्मक भित्तिचित्र बने हुये है । चोमे किले मे बने महलो मे देवी निवास तो जयपुर के अल्बर्ट हॉल की प्रतिकृति जैसा प्रतीत होता है ।

चौमूँ किले के पास बने मंदिर

गढ़ गणेश मंदिर चोमू यह चोमू का सबसे प्राचीन मंदिर है जो की चोमू किले के पास ही बना हुआ है इस मंदिर मे रोजाना भक्त भगवान श्रीगणेश जी के दर्शन करने के लिए आते है ओर इस मंदिर मे बुधवार के दिन तो भक्तो की भीड़ बहुत अधिक होती है ओर ऐसा लगता है जैसे की मेले का आयोजन हो रहो हो ।

चौमूँ गढ़ के मंगलपोल पर बना गणेशजी का मंदिर एवं हाथियो के थाण के पास मोहनलालजी का मंदिर व किले के सामने सितारामजी का मंदिर है ।

#Chomu, Chomu Palace, Chomu Kile Ka Itihas, Chomu Kile Ki Janakari, Chome Kile Ki Information, Chomu Se Jaipur ki duri, Chomu ka Itihas, चोमू किले काइतिहास, चोमू किले की खास बाते, चोमू पैलेस, चोमू पैलेस होटल, चोमू पैलेस का निर्माण किसने करवाया, चोमू महल की जानकारी, चोमू का इतिहास

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here