जननी सुरक्षा योजना (जेएसवाई) का लाभ, ऑनलाइन आवेदन, पात्रता, दस्तावेज़ के बारे मे जाने

janani suraksha yojana online registration, जननी सुरक्षा योजना का लाभ

जननी-सुरक्षा-योजना, Maternity-Safety-Scheme
जननी सुरक्षा योजना (जेएसवाई) का लाभ, ऑनलाइन आवेदन, पात्रता, दस्तावेज़ के बारे मे जाने

जननी सुरक्षा योजना (जेएसवाई) का लाभ, ऑनलाइन आवेदन, पात्रता, दस्तावेज़ के बारे मे जाने

SearchDuniya.Com

जननी सुरक्षा योजना क्या है, इसके लाभ क्या है, इस योजना के लिए आवेदन कैसे करे, जननी सुरक्षा योजना से कितना लाभ ले सकते है, आदि की पूरी जानकारी के लिए पोस्ट को आखिर तक पूरी पढे ।

जननी सुरक्षा योजना क्या है

यह योजना राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मिशन के तहत सुरक्षित मातृत्‍व कार्यक्रम है । इसे गरीब गर्भवती महिलाओं में संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देकर मातृत्‍व एवं नवजात मृत्‍यु दर घटाने के उद्देश्‍य से कार्यान्‍वित किया जा रहा है । इस योजना की शुरुआत 12 अप्रैल, वर्ष 2005 को भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री द्वारा की गई थी । यह योजना कम निष्‍पादन वाले राज्‍यों (एलपीएस) पर विशेष बल के साथ सभी राज्‍यों एवं संघ राज्‍य क्षेत्रों में चल रही है । जेएसवाई एक 100% केन्द्र प्रायोजित योजना है । यह योजना गर्भावस्‍था के दौरान प्रसूति पूर्व देखभाल, प्रसव के दौरान संस्‍थागत देखभाल तथा प्रसूति उपरांत देखभाल के साथ-साथ नकद सहायता भी प्रदान करती है ।

इस योजना के तहत दस कम निष्‍पादन वाले राज्‍यों मुख्यतः आठ ईएजी राज्य, असम तथा जम्मू और कश्मीर और शेष एनई राज्यों में सरकार और गरीब गर्भवती महिलाओं के बीच एक प्रभावी कड़ी के रूप में अधिकृत सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता आशा की पहचान की गयी है । अन्य राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में, जहाँ एडब्ल्यूडब्ल्यू (आंगनवाड़ी कार्यकर्ता) और टीबीए या आशा जैसे कार्यकर्ता इस उद्देश्य में संलग्न हैं, वे सेवाएं प्रदान करने के लिए इस योजना से जुड़ी हो सकती हैं ।

 

जननी सुरक्षा योजना की खास बाते ( विशेषताएं )

  • यह योजना गरीब गर्भवती महिला पर ध्यान केंद्रित करती है, जिसके तहत उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, असम, राजस्थान, उड़ीसा और जम्मू-कश्मीर राज्यों में निम्न संस्थागत प्रसव दर है । जबकि इन राज्यों को निम्न प्रदर्शन करने वाले राज्यों (एलपीएस) के रूप में नामित किया गया है तथा शेष राज्यों को उच्च प्रदर्शन करने वाले राज्यों (एचपीएस) के रूप में नामित किया गया है ।
  • प्रत्येक गर्भावस्था की निगरानी करना: इस योजना के तहत पंजीकृत प्रत्येक लाभार्थी के पास एक एमसीएच कार्ड के साथ एक जेएसवाई कार्ड होना चाहिए । सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा अधिकारी और एएनएम की संपूर्ण देखरेख में पहचान की गई संबंधित अधिकृत कार्यकर्ता आशा/एडब्ल्यूडब्ल्यू अनिवार्य रूप से विस्तृत जन्म योजना तैयार करेगें। यह प्रभावी रूप से प्रसव पूर्व जांच और प्रसवोत्तर देखभाल की निगरानी में मदद करेगा
  • नकद आर्थिक सहायता के लिए पात्रता: गरीबी रेखा से नीचे का प्रमाण पत्र- यह सब एचपीएस राज्यों में आवश्यक है। हालांकि, जहां बीपीएल कार्ड अभी तक जारी नहीं किए गए हैं या अपडेट नहीं किए गए हैं, वहां राज्य/संघ शासित प्रदेश, ग्राम प्रधान या वार्ड सदस्य को अधिकृत करते हुए गरीब और गर्भवती माता के परिवार की ज़रूरतमंद स्थिति के प्रमाणपत्र के लिए एक सरल मानदंड तैयार करेंगे ।

संस्थागत प्रसव के लिए नकद आर्थिक सहायता के मापदंड

श्रेणी ग्रामीण क्षेत्र कुल शहरी क्षेत्र कुल
माता का पैकेज आशा का पैकेज रुपए माता का पैकेज आशा का पैकेज रुपए
एलपीएस 1400 600 2000 1000 200 1200
एचपीएस 700 600 700 600 200 600

 

नकद आर्थिक सहायता प्रदान करना

गर्भवती महिला को प्रसव के लिए मुख्यतः नकद आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है, इसे संस्थान में ही प्रभावी ढंग से दिया जाता है ।

प्रसव के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य संस्थान में जाने वाली गर्भवती महिलाओं को स्वास्थ्य संस्थान में संपूर्ण नकद एक बार में वितरित किया जाएगा । यह देखते हुए कि कुछ महिलाएं प्रसव पूर्व देखभाल के लिए निजी संस्था में जाती है, तो उन्हें टीटी इंजेक्शन सहित कम से कम तीन एएनसी प्राप्त करने के लिए कुछ वित्तीय सहायता की आवश्यकता होगी । ऐसे मामलों में, जेएसवाई के तहत नकद सहायता का कम से कम तीन-चौथाई (3/4) लाभार्थी को एक बार में महत्वपूर्ण रूप से, प्रसव के समय दिया जाएगा ।

 

ये भी पढे

जननी सुरक्षा योजना

गर्भावस्था सहायता योजना का लाभ कैसे ले जानने के लिए क्लिक करे

इन्दिरा गाँधी गर्भवती सहायता योजना क्या है, जाने लाभ, योग्यता, दस्तावेज़ आदि की पूरी जानकारी

पुत्रियों के लिए आप ले सकते है इन 8 सरकारी योजनाओ का लाभ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here