One Nation One Ration Card Yojana Rajasthan, कैसे होगा फायदा

Benefits Of One Nation One Ration Card Scheme

One Nation One Ration Card Yojana Rajasthan, कैसे होगा फायदा
One Nation One Ration Card Yojana Rajasthan, कैसे होगा फायदा

One Nation One Ration Card Yojana Rajasthan, कैसे होगा फायदा

One Nation One Ration Card Scheme Ka Fayda, एक देश एक राशन कार्ड योजना राजस्थान,

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना का लाभ, Benefits Of One Nation One Ration Card Scheme

SearchDuniya.Com

One Nation One Ration Card Yojana Rajasthan, कैसे होगा फायदा

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना को राजस्थान में भी लागू कर दिया गया है एक देश एक राशन कार्ड योजना ( One Nation One Ration Card Yojana ) को लागू करने वाला राजस्थान 12वा राज्य बन गया है.

One Nation One Ration Card Scheme In Hindi

राजस्थान भारत देश के उन राज्यों में शामिल हो गया है, जिसने ‘वन नेशन-वन राशन कार्ड’ रिफॉर्म की प्रक्रिया को सफलतापूर्वक पूरा कर ली है. राजस्थान अब खुले बाजार से 2,731 करोड़ रुपये अतिरिक्त कर्ज ले सकेगा. केंद्रीय वित्त मंत्रालय की ओर से दी गई व्यवस्था के तहत अब राजस्थान अपनी वित्तीय जरूरतों को पूरा करने में पहले से ज्‍यादा सक्षम हो पाएगा.

 

33,400 करोड़ रुपए का अतिरिक्त कर्ज ले सकेंगे 12 राज्य

अब तक 12 राज्यों ने ‘वन नेशन-वन राशन कार्ड’ सिस्टम लागू किया है.

राजस्थान से पहले आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, गोवा, गुजरात, हरियाणा, केरल, त्रिपुरा, उत्तर प्रदेश और तेलंगाना ने भी

‘वन नेशन-वन राशन कार्ड’ सिस्‍टम को लागू कर दिया है.

इस उपलब्धि को हासिल करने के बाद ये 12 राज्य ओपन मार्केट से 33,440 करोड़ रुपये का अतिरिक्त कर्ज ले सकेंगे.

वन नेशन वन राशन कार्ड सिस्टम लागू करने वाले 12 राज्यों की अतिरिक्त कर्ज की राशि

  • कर्नाटक 4509
  • केरल 2261
  • मध्यप्रदेश 2373
  • राजस्थान 2731
  • तमिलनाडु 4813
  • आंध्रप्रदेश 2525
  • गोवा 223
  • गुजरात 4352
  • हरियाणा 2146
  • तेलंगाना 2508
  • त्रिपुरा 148
  • उत्तरप्रदेश 4851

 

कोरोना काल में मोदी सरकार द्वारा की गई थी यह व्यवस्था

कोविड-19 और लॉकडाउन के कल के सभी राज्यों की आर्थिक स्थिति खराब थी तथा राज्यों के पास अपने प्रशासनिक खर्च उठाने तक के लिए नकदी की कमी पड़ गई थी. ऐसे में मोदी सरकार ने 17 मई 2020 को इस व्यवस्था की शुरूआत की थी. इसके तहत वन नेशन-वन राशन कार्ड सिस्टम प्रक्रिया को पूरा करने वाले राज्यों को ओपन मार्केट से अतिरिक्त कर्ज लेने की अनुमति होगी. राज्यों को अपने जीएसटी का 2 फीसदी तक का कर्ज लेने की अनुमति होगी. इसमे से 1 फीसदी नागरिक केंद्रित चार रिफॉर्म्स करने में सफलता हासिल करने पर कर्ज लेने की अनुमति मिलेगी.

 

केंद्र सरकार ने नागरिक हीतो का रखा ध्यान

केंद्र सरकार ने नागरिक हितों के सुधार पर भी जोर दिया है, जिसके तहत वन नेशन वन राशन कार्ड लागू करना, ईज ऑफ डूइंग बिजनेस, अर्बन लोकल बॉडी या यूटिलिटी रिफॉर्म और ऊर्जा क्षेत्र में रिफॉर्म का प्रावधान किया गया है. अब तक 17 राज्यों ने इन चार रिफॉर्म्स में से कम से कम एक को सफलतापूर्वक लागू किया है. इनमें 12 राज्यों ने वन नेशन वन राशन कार्ड सिस्टम को लागू किया है. वहीं, 12 राज्यों ने ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रिफॉर्म को लागू किया है. महज 5 राज्यों ने ही लोकल बॉडी रिफॉर्म में सफलता पाई है, जबकि 2 राज्यों ने पावर सेक्टर रिफार्म में सफलता हासिल की है. इन मापदंडों के तहत राज्यों को कुल 74,773 करोड़ रुपये का कर्ज लेने की अनुमति दी जा चुकी है.

 

कोरोना के चलते जब लॉकडाउन था तब राज्य के नागरिकों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हुआ उस समय केंद्र सरकार ने सभी राज्यों को वन नेशन वन राशन कार्ड योजना को लागू करने के लिए प्रोत्साहित किया. इस सिस्टम से श्रमिकों, मजदूरों, शहरी गरीबों, घरेलू नौकरों जैसे लोगों को सीधा फायदा मिलेगा. ये वर्कफोर्स देश के किसी भी हिस्से से फूड सिक्योरिटी स्कीम का लाभ ले सकेंगे. ये लोग किसी भी इलेक्ट्रॉनिक प्‍वाइंट ऑफ सेल (POS) से लैश फेयर प्राइस शॉप से अनाज का कोटा ले सकेंगे.

 

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना का फायदा ( Benefits Of One Nation One Ration Card )

वन नेशन-वन राशन कार्ड सिस्टम को लागू करने के पीछे मोदी सरकार का मकसद है कि सभी को उनके कोटे का अनाज मिले. राज्यों को भी योग्य लाभार्थियों की पहचान करने के साथ नकली, डुप्लीकेट या अयोग्य कार्डधारकों की भी पहचान करना आसान होगा. लाभार्थियों का आधार कार्ड राशनकार्ड से लिंक कर दिया जाता है. इसके बाद बॉयोमीट्रिक के जरिये लाभार्थियों को उनके कोटा का अनाज मुहैया कराया जाता है. अगर कोई राज्य सरकार अपने यहां के सभी लाभार्थियों के आधार कार्ड को राशन कार्ड से लिंक कर देती है और सभी फेयर प्राइस सेल के ऑटोमेशन में सफलता हासिल कर लेती है तो अपने जीडीपी का 0.25 फीसदी ओपन मार्किट से अतिरिक्त कर्ज ले सकती है.

 

यह भी पढ़ें

श्रमिक कार्ड ऑनलाइन आवेदन 2021 की प्रक्रिया जाने

श्रमिक कार्ड बना हुआ है तो ऐसे ले सकते हैं लाभ

मुख्यमंत्री फ्री कोचिंग योजना 2021 ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन जाने आप कैसे कर सकते हैं फ्री में कोचिंग

गर्भावस्था सहायता योजना का लाभ कैसे लें

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here