ताजा अपडेट के लिए टेलीग्राम चैनल जॉइन करें- Click Here
News

Rajasthan Foundation Day 2023: राजस्थान 74वें स्थापना दिवस पर जानिए राज्य की खास बातें

राजस्थान किलों और महलों के कारण विशेष प्रसिद्धि

Rajasthan Foundation Day 2023: राजस्थान 74वें स्थापना दिवस पर जानिए राज्य की खास बातें

Rajasthan Diwas 2023: राजस्थान आज गुरुवार 30 मार्च को 74 साल का हो गया है। आज राजस्थान का स्थापना दिवस (Rajasthan Foundation Day 2023) मनाया जा रहा है। स्थापना दिवस समारोह की पूर्व संध्या पर लोकसभा के अध्यक्ष ओम बिरला ने राज्य के लोगों को शुभकामनाएं और बधाई दीं।

15 अगस्त 1947 को जब देश आजाद हुआ, तब अलग-अलग राज्यों के गठन का काम शुरू हुआ। मध्य पश्चिमी भारत में कई राजाओं की रियासतें थी। इन रियासतों का एकीकरण करके वृहत राजस्थान संघ की स्थापना की गई, जिसे राजपुताना नाम से भी जाना जाता था। पहले अलवर, भरतपुर, धौलपुर और करौली की रियासतों को एक किया गया। बाद में जयपुर, जोधपुर, जैसलमेल और बीकानेर की रियासतों का भी विलय गिया गया। कुल 7 चरणों में राजस्थान का एकीकरण हुआ, जिसे 30 मार्च 1949 को अंतिम रूप दिया गया। राजस्थान के एकीकरण में सरदार वल्लभ भाई पटेल का विशेष योगदान रहा। हर वर्ष 30 मार्च को राजस्थान का स्थापना दिवस मनाया जाता है। 30 मार्च 2023 को राजस्थान 74 साल का हो गया।

राजस्थान नाम क्यों रखा गया

अलग-अलग प्रदेशों के गठन और नामकरण के पीछे कोई न कोई वजह जरूर होती है। राजस्थान के नामकरण के पीछे भी एक बड़ा कारण है। आजादी से पहले यहां अलग-अलग रियासतें थी, जिनमें अलग-अलग राजा शासन करते थे। राजपरिवार में परम्पराएं होती थी कि उनका शासन वंशानुगत चलता था। आजादी के बाद जब देश में लोकतंत्र लागू हुआ तो राजाओं का शासन चला गया और शासन जनता के जरिए तय किया जाने लगा। क्योंकि यह स्थान पहले राजाओं का स्थान रहा है। इसी कारण इस प्रदेश का नाम भी राजस्थान रख दिया गया।

राजस्थान किलों और महलों के कारण विशेष प्रसिद्धि

राजाओं की रियासतों के कारण राजस्थान में कई किले हैं। प्रमुख किलों की संख्या 13 हैं, जिनमें जयपुर का आमेर और जयगढ़ किला, जोधपुर का मेहरानगढ़ किला, राजसमंद का कुम्भलगढ़ किला, सवाई माधोपुर का रणथम्भोर किला, बीकानेर का जूनागढ़ किला, भरतपुर का लोहागढ़ किला विश्वभर में अपनी विशेष पहचान रखते हैं। अन्य किलों और महलों में गागरौन किला, जैसलमेर, सिरोही का अचलगढ़, नागौर का अहिछत्रगढ़, जालौर दुर्ग, सिरोही का खिमसर किला, अवलर का निमराणा किला, सिटी पैलेस आदि भी प्रसिद्ध हैं। अभेद किलों के साथ रानियों के कहने के लिए आलीशान महल भी बने हुए हैं।

देश का दसवां भूभाग है राजस्थान

राजस्थान देश का सबसे बड़ा राज्य हैं। इसका कुल क्षेत्रफल 3 लाख 42 हजार239 वर्ग किलोमीटर है। यह देश का 1/10 भूभाग है। राजस्थान में अभी तक 7 संभाग और 33 जिले थे, लेकिन हाल ही में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दो जिलों का विलय करते हुए 19 नए जिलों और 3 नए संभागों की घोषणा की है। ऐसे में अब राजस्थान में कुल 10 संभाग और 50 जिले हो गए हैं। नए जिलों और संभागों के नोटिफिकेशन जारी करने और प्रशासनिक कार्य शुरू होने में कुछ महीनों का समय लगेगा। Rajasthan Foundation Day 2023

शौर्य गाथाओं के कारण विशेष पहचान

राजस्थान की शौर्य गाथाओं के कारण राजस्थान देश में अपनी विशेष पहचान रखता है। महाराणा प्रताप, चंद्र सेन राव और महाराजा सूरजमल की शौर्य गाथाएं विश्वभर में प्रसिद्ध है। इतिहारकार कर्नल जेम्स टॉड ने राजस्थान को यूरोप के थर्मापोली की संज्ञा दी थी। थर्मापोली में पग पग पर वीरता की कहानियां हैं। उसी तरह राजस्थान में बहुत वीर यौद्धा हुए हैं, जिनके कारण इसे थर्मापोली कहा गया। राजस्थान का बड़ा भू-भाग रेगिस्तान है। यहां भारत की सबसे पुरानी पर्वतमाला अरावली भी मौजूद है।

पर्यटन के रूप में भी खास है राजस्थान

पर्यटन की दृष्टि से राजस्थान दुनिया में अपनी विशेष पहचान रखता है। यहां दर्जनों ऐसे पर्यटन स्थल है, जहां रोजाना हजारों की संख्या में देशी विदेशी पर्यटक भ्रमण के लिए आते हैं। साथ ही धोरों की धरती जैसलमेर की भी अपनी विशेष पहचान है, जहां हिचकौले खाते पर्यटक ऊंटों की सवारी का आनन्द लेते देखे जा सकते हैं। झीलों की नगरी उदयपुर हो या पिंक सिटी जयपुर, पर्यटन की दृष्टि से यहां कई दर्शनीय स्थान हैं।

ताजा खबरों की अपडेट के लिए Search Duniya से जुड़े

सभी सरकारी भर्तियों की अपडेट यहाँ देखे Click Here
सभी अपडेट Telegram पर पाने के लिए यहां क्लिक करें Click Here
सरकारी भर्तियों की अपडेट Whatsapp पर लेने के लिए इस नंबर को अपने मोबाइल मे सेव करे और Whatsapp से अपना नाम और पता लिखकर भेजे 7878656697

यह भी पढ़ें

करियर कैसे बनायें जानिए

आईपीएस (IPS) ऑफिसर कैसे बने, आईपीएस अधिकारी की तैयारी कैसे करें जानिए

क्रिकेट में करियर कैसे बनाये जानिए

ताजा अपडेट के लिए टेलीग्राम चैनल जॉइन करें- Click Here

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button